इन उपायों को अपनाएं और प्रेम को शादी की मंजिल तक पहुंचाएं

प्रेम-विवाह की राह बनेगी आसान

प्रेम एक ऐसा शब्द है जो दो लोगों के बीच के रिश्ते को और मज़बूत बनाता हैI आजकल लड़के-लड़कियां कंधे से कंधा मिलकर चल रहे हैं I ऐसे में साथ काम करते हुए, बातचीत करते हुए और मिलते हुए आपसी सामंजस्य के कारण प्रेम-संबंधों का जन्म होना स्वाभाविक है I

 परन्तु यह प्रेम बहुत ही नाज़ुक और विश्वास पर टिका होता है जिसकी नींव को गहरा करने के लिए प्रेम-संबंधों का शादी में परिणत हो जाना अनिवार्य होता है I आज भी हमारा समाज इन संबंधों को पूरी तरह स्वीकार नहीं करता, इसीलिए बहुत-से प्रेमी-युगल आज भी शादी के बंधन तक पहुँचने के लिए एक कड़ा संघर्ष करते हैं I अगर आप भी अपने प्रेम-संबंधों को विवाह के पवित्र बंधन तक पहुंचाना चाहते हैं, तो इन मन्त्रों और उपायों के माध्यम से अपनी राह आसान बना सकते हैं :-

  • Remedy for marriageकृष्ण मंत्र-

भगवान श्रीकृष्ण को प्रेम का प्रतीक माना जाता है I वास्तव में श्रीकृष्ण ही थे जिन्होंने अपनी रास-लीलाओं से मनुष्य को प्रेम करना सिखाया I हर सप्ताह शुक्रवार को यदि राधा-कृष्ण की मूर्ती के समक्ष बैठकर केशवी केशवाराध्या किशोरी केशवस्तुता, रूद्र रूपा रूद्र मूर्तिः रूद्राणी रूद्र देवतामंत्र का 108 बार जाप किया जाए तो 3 महीने के अन्दर प्रेम-सम्बन्ध को आसानी से विवाह में तब्दील किया जा सकता है I

  • राधा-कृष्ण मंत्र-

प्रेम का सबसे बड़ा और सच्चा उदाहरण हैं-राधा-कृष्ण I इसीलिए प्रत्येक शुक्रवार किसी भी राधाकृष्ण मंदिर में भगवान के दर्शन कर प्रेम सहित माखन-मिश्री का भोग लगाना चाहिए I इसके उपरांत प्रेमी या प्रेमिका का स्मरण करते हुए ऊं क्लीं कृष्णाय गोपीजन वल्लभाय स्वाहा मंत्र का श्रद्धा भाव से जाप करना चाहिए I ऐसा करने से विवाह तो होगा ही साथ ही वैवाहिक जीवन भी सफल रहेगा I

  • लक्ष्मी-विष्णु मंत्र-

लक्ष्मी-नारायण का मंत्र भी प्रेम-विवाह को सफल बनाने के लिए महत्वपूर्ण होता है I  प्रत्येक गुरुवार 108 बार ऊं लक्ष्मी नारायणाय नमः मंत्र का जाप स्फटिक माला द्वारा विष्णु और लक्ष्मी जी के चित्र अथवा मूर्ती के सामने करना चाहिए I परन्तु ध्यान रहे की किसी भी माह के शुक्ल पक्ष से ही इस मंत्र का प्रारंभ करना चाहिए I

  • शिव मन्त्र-

रुद्राक्ष की माला से ऊं सोमेश्वराय नमः मंत्र का एक माला जाप करने ओर दूध मिश्रित गंगाजल को शिवलिंग पर अर्पित करने से प्रेम-विवाह में सफलता हासिल होती है I

इसके अतिरिक्त भोले बाबा का एक और मंत्र है जो आपको लाभ अवश्य देगा I रुद्राक्ष की 5 माला फेरते हुए ऊं श्रीं वर प्रदाय श्री नमः मंत्र का जाप करें और जाप पूर्ण होने पर 5 नारियल भगवान के शिवलिंग रूप पर अर्पित करें I

  • भैरव मंत्र-

यदि प्रेमी-प्रेमिका स्वयं ही अपने विवाह की संभावनाएं कम कर रहे हो अर्थात प्रेम-संबंधों में दरार आ गई हो तो ऐसी स्थिति में भैरव जी को प्रसन्न करना फलदायी सिद्ध होता है I ऊं ज्लौम रहौं क्रोम उत्तरनाथ भैरवाय स्वाहाः मंत्र का सच्चे मन से जाप करने से और मीठी रोटी का प्रसाद चढ़ाने से भैरव देवता आपके प्रेम को मज़बूत बनाते हैं I

  • मंगल गृह का प्रभाव-

प्रेमी-युगल में से यदि किसी एक पर भी मंगल गृह का प्रभाव है तो इस कारण भी प्रेम-विवाह में समस्याएं आ सकती हैं I मंगल दोषों जैसी अड़चनों का भी जल्द से जल्द निवारण कर लेना चाहिए I

  • इस दिन अवश्य मिलें-

ऐसे तो प्रेमी-प्रेमिका मिलने के लिए सदा इच्छुक रहते हैं परन्तु यदि वह शुक्रवार की पूर्णिमा जैसे शुभ योग में मिलें तो उनका प्रेम हमेशा के लिए अमर हो जाता है I

आप अपनी डेट ऑफ़ बिरथ से भी जान सकते है की क्या आपकी हो सकती है लव मैरिज .

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>