सौभाग्य: इन उपायों को अपनाकर दुर्भाग्य को सौभाग्य में बदलें



आज ऐसा कौन-सा व्यक्ति है, जो धन की इच्छा नहीं रखता I हर व्यक्ति ज़्यादा से ज़्यादा धन एकत्र करने के लिए बेचैन है I धन-संपदा और सुख-समृद्धि प्राप्त करने के लिए मेहनत तो सभी करते हैं, परन्तु कुछ मनुष्यों का दुर्भाग्य उनका पीछा नहीं छोड़ता I इस दुर्भाग्य के कारण ही कड़ी मेहनत करने के बावजूद भी असफलता ही हाथ लगती है I
यदि आप भी इस समस्या जूझ रहे हैं, तो परेशान ना हों क्योंकि ज्योतिष (jyotish) विद्या में हर समस्या का हल है I अपने दुर्भाग्य को सौभाग्य में बदलने के लिए, आप भी ज्योतिष के ये उपाय अपनाकर लाभ प्राप्त करें:-
•स्वस्तिक ( swastika ) का चिन्ह हिन्दू संस्कृति में हमेशा से ही शुभ प्रतीक्माना जाता रहा है I इसीलिए सौभाग्य प्राप्त करने के लिए गुरु पुष्य या रवि योग में बरगद के पत्तों में हल्दी से स्वस्तिक का चिन्ह बनाकर घर में रखें I
•धन प्राप्ति के लिए घर या दुकान की तिजोरी में काली हल्दी की एक गाँठ शुभ मुहूर्त में लाकर रखना लाभकारी सिद्ध होता है I
•यदि परिवार का कोई व्यक्ति नौकरी, नए व्यवसाय जैसे शुभ कार्यों के लिए घर से बहार निकलें, तो घर की महिला को उस समय एक मुट्ठी काले उड़द व्यक्ति के सिर के ओपर वार कर भूमि पर रख देने चाहिए I ऐसा करने से कार्य में सफलता अवश्य मिलती है I
•भगवान विष्णु और धन की देवी माँ लक्ष्मी का पूजन एक साथ करना चाहिए I इसके पश्चात छोटे बच्चों, कन्याओं या भिखारियों को भोजन करवाने से धन-लाभ और सौभाग्य की प्राप्ति होती हैI

•भाग्य के सितारे चमकाने के लिए घर में सकारात्मक ऊर्जा का आगमन भी ज़रूरी होता है I ऐसी कामना रखने वाले लोगों को घर के मुख्य द्वार के ऊपर श्रीगणेश की प्रतिमा या चित्रपट लगाकर प्रतिदिन सुबह उस पर दूर्वा अर्पित करनी चाहिए I परन्तु ध्यान रहे कि प्रतिमा या चित्रपट इस प्रकार लगाई जाए जिसका मुख घर की अन्दर की तरफ़ हो I
•दुर्भाग्य से मुक्ति पाने के लिए ऐसा भी माना जाता है कि गरीब, असहाय, रोगी और किन्नरों की सहायता अवश्य करनी चाहिए I धन-लाभ के लिए जब भी कोई किन्नर मिले तो उन्हें दान ज़रूर देना चाहिए और फिर एक सिक्का वापस लेकर तिजोरी में रखना चाहिए I

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>