जीवन को खुशहाल बनाने और गृह क्लेश से मुक्ति के उपाय


 गृह क्लेश का निवारण

आज हर घर में पति-पत्नी, भई-भाई, पिता-पुत्र, सास-बहू के बीच इर्ष्या, द्वेष और जलन जैसी भावनाएं हैं, स्नेह और प्यार की भावनाएं तो कहीं खो गईं हैं I समाज से पारिवारिक संवेदनाएं तो जैसे लुप्त हो गईं हैं I इसलिए आज की भागदौड़ भरी जीवनशैली में हर किसी की कामना है कि उसके गृहस्थ जीवन में सुख और शांति आए I घर-परिवार की खुशहाली और समृद्धि ही व्यक्ति को जीवन में प्रगति के मार्ग पर अग्रसर करती है I

हिन्दू धर्म में ऐसी मान्यता है कि जिस घर में क्लेश होता है, वहां लक्ष्मी का वास नहीं होता I ज्योतिष विद्या में ऐसे कई उपाय बताये गए हैं जिनसे आप गृह-क्लेश से बाख सकते हैं या उसे कम कर सकते हैं I यहाँ हम आपको ऐसे ही कुछ उपाय बता रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप भी गृह-क्लेश से मुक्ति पा सकते हैं और अपने जीवन को सुखमय एवं खुशहाल बना सकते हैं I

  1. सोने की दिशा

सोते समय आपके सिर और पैर किस दिशा में हैं, यह गृह-क्लेश में काफी अहम भूमिका निभाता है I गृह-कलह से मुक्ति के लिए रात को सोते समय पूर्व की ओर सिर रखकर सोएं I ऐसा करने से आपको तनाव से राहत मिलेगी और साथ ही घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगाI

अगर आप दक्षिण में सिर या पैर रखकर सोते हैं तो आपको इससे विपरीत प्रभाव देखने को मिलेंगे और मानसिक अशांति का आभास भी होगा I

  1. जलाभिषेक-

आपको प्रतिदिन प्रातः शीघ्र उठना चाहिए, अपने नित्यादी कर्मों से निवृत्त हो स्नान करना चाहिए I स्नान करने के बाद स्वच्छ वस्त्र पहनकर मंदिर या घर पर शिवलिंग के सामने बैठकर शिव-उपासना करें I इसके बाद 108 बार ऊं नमः सम्भवाय च मयो भवाय च नमः I शंकराय च नमः शिवाय च शिवतराय चःI I मन्त्र का उच्चारण करें और शिवलिंग पर जलाभिषेक करें I नियमित रूप से ऐसा करने से पति-पत्नी के वैवाहिक जीवन में सुख-शांति बनी रहती है I

  1. हनुमान उपासना-

संकटमोचन हनुमान जी की नियमित रूप से की गई उपासना आपको सभी प्रकार के संकट और गृह-कलह से दूर रखता है I विशेषकर यदि कोई महिला गृह कलेश से परेशान है तो उसे भोजपत्र पर लाल कलम से पति का नाम लिख कर तथा हं हनुमंते नमः का 21 बार उच्चारण करते हुए उस पत्र को घर के किसी कोने में रख देना चाहिए I इसके अलावा 11 मंगलवार नियमित रूप से हनुमान मंदिर में चोला एवं सिन्दूर चढाने से समस्याओं का निवारण होगा I

  1. गणेश उपासना-

श्री गणेश जी की उपासना करने से आप घर में चल रहे विवाद या पति-पत्नी और बाप-बेटे के बीच की कलह से छुटकारा पा सकते हैं I वैवाहिक जीवन को सुखी बनाने के लिए नुक्ति के लड्डू का भोग लगाकर गणेश जी और माँ शक्ति की उपासना करना फायदेमंद रहेगाI इससे आपके घर में सुख-समृद्धि की वर्षा भी होगी I

  1. चीटियों को भोजन –

चीटियों के बिल के पास शक्कर अथवा आटा व चीनी मिलाकार 40 दिन तक नियमित रूप से डालने से गृह क्लेश की समस्याओं का समाधान स्वतः हो जाता है I ध्यान रखें कि इस प्रक्रिया में कोई दिन नागा अर्थात खली ना जाए I

  1. गोमती चक्र फेंकें-

यदि पति-पत्नी के रिश्तों में तनाव अधिक बढ़ गया है, तो इस तनाव को कम करने के लिए 3 गोमती चक्र लेकर घर के दक्षिण में “हलूं बलजाद” कहकर फेंकें I इसके अलावा पांच गोमती चक्रों को लाल सिन्दूर की डिब्बी में घर के अन्दर श्रृंगार वाले स्थान या पूजा में  रखने से भी दाम्पत्य जीवन फलता-फूलता है I

  1. कुमकुम लगाएं-

एक गेंदे के फूल पर कुमकुम लगाकर उसे किसी देव स्थान पर मूर्ति के सामने रखने से रिश्तों में आया तनाव और मतभेद दूर होते हैं I साथ ही शुक्रवार को छोटी कन्या को मीठी वस्तु खिलाने एवं भेंट करने से आपके संकतोंका निवारण होता है और घर में खुशहाली बनी रहती है I

  1. तकिये में सिन्दूर-

अगर पति-पत्नी रात को सोते समय अपने तकिये में सिन्दूर की एक पुड़िया और कपूर रखें तो घर में व्याप्त कलह या गृह क्लेश क्लेश को कम किया जा सकता है I लेकिन ध्यान रहे कि सुबह सूर्योदय से पहले उठकर सिन्दूर की पुड़िया घर से बहार फेंक दें और कपूर को निकालकर अपने कमरे में जला दें, ऐसा करने से लाभ मिलेगा I

  1. हल्दी की गाँठ-

एक लड़की का कर्तव्य होता है कि वह अपने ससुराल को भी खुशहाल बनाए रखे I स्वयं भी सुखी रहे और दूसरों को भी सुखी रखे I ससुराल में सुखी रहने के लिए कन्या अपने हाथ से हल्दी की 5 साबुत गांठें, पीतल का एक टुकड़ा और थोडा-सा गुड ससुराल की दिशा में फेंके, ऐसा करने से ससुराल में सुख-शांति का वास रहता है I साथ ही ऐसा करना पति-पत्नी के बीच प्रेम-संबंधो को भी मधुर बनाए रखता है I

अच्छी नींद के लिए वैदिक मंत्र

इन उपायों को अपने जीवन में उतारकर आप भी लाभ प्राप्त कर सकते हैं और गृह क्लेश की समस्या से मुक्ति पा सकते हैं I

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>