श्री कृष्ण के अनुसार निर्धनता से बचने के उपाय



श्री कृष्ण के अनुसार निर्धनता से बचने के उपाय

आम तौर पर गोपियों के साथ रास रचाने के करने के कारण श्री कृष्ण को रास-रचियता कहा जाता है । वृन्दावन की गोपियाँ श्री कृष्ण पर मोहित रहती थीं । श्री कृष्ण के जीवन चरित्र को पढ़ने पर पता चलता है कि वो एक कुशल राजनीतिक और महान कूटनीतिज्ञ भी थे। महाभारत का युद्ध एक ऐतिहासिक युद्ध था। इस युद्ध में गीता का महान उपदेश देकर उन्होंने अर्जुन को भावनाओं के भँवर जाल से बाहर निकाला और धर्म के रास्ते पर चलने की प्रेरणा दी , अन्यथा अर्जुन तो अपने स्वजनों एवं गुरूओं को सामने खड़ा देखकर हथियार डाल ही चुके थे।

कृष्ण ने अपने जीवनकाल में कुछ ऐसी बातों का वर्णन किया था, जिनका पालन करके कोई भी मनुष्य अपनी दरिद्रता को दूर कर सकता है। सनातन धर्म में उपलब्ध पौराणिक शास्त्रों एवं ग्रन्थों ने इन्हीं बातों का वर्णन बड़ी विस्तार से किया है।

महाभारत की एक कथा के अनुसार ,पाँडवों के ज्येष्ठ भ्राता युधिष्ठर ने श्री कृष्ण से अपनी शंका का समाधान करने के लिये प्रश्न पू्छा ,“ हे वासुदेव ! किसी भी मनुष्य को अपने घर में सुख-समृद्धि तथा धन-धान्य से सुखी जीवन जीने के लिये क्या-क्या उपाय करना चाहिए ? “

इस जवाब के उत्तर में श्री कृष्ण ने युधिष्ठर को कुछ उपाय तथा कुछ वस्तुओं का संग्रह करने के बारे में बताया , जिन्हें घर में रखने से दरिद्रता का नाश होता है तथा सुख-समृद्धि एवं धन-धान्य का आगमन होता है। आइये जानते हैं, आखिर कौन सी हैं वो वस्तुएँ और कौन से हैं वो उपाय तथा उन्हीं के बारे में विस्तार से चर्चा करते हैं।

  • athithi devo bhava† अतिथि देवो भव

घर आए मेहमानों को सबसे पहले पीने का पानी पिलायें , इससे अशुभ ग्रह टल जाते हैं । हमारे सनातन धर्म के पुराणों एवं शास्त्रों के अनुसार, मेहमानों का उचित सम्मान करने से घर में आयी दरिद्रता का नाश होता है एवं भाग्य का उदय होता है। यह हमारी भारतीय संस्कृति का हिस्सा भी है।

  • शुद्ध  घी

श्री कृष्ण के अनुसार जिन घरों में गाय के शुद्ध घी का दीपदान होता है तथा इसी घी का प्रसाद चढ़ाया जाता है, उस घर में देवी देवताओं की कृपा सदैव बनी रहती है। ऐसे घर में कभी दरिद्रता का वास नहीं होता तथा खुशियों की प्राप्ति होती है।

  • † शहद

शास्त्रों में शहद को बहुत पवित्र द्रव्य माना गया है। इसे घर में रखने से नकारात्मक ऊर्जा का नाश होता है और सकारात्मक ऊर्जा का वास होता है। साफ सुथरे स्थान पर इसको रखना अनिवार्य है। ऐसा करने से घर के अनावश्यक खर्चों में कमी आती है और धन धान्य में बरकत  होती है।

  • † तिलक का प्रयोग

श्री कृष्ण के अनुसार सौर-मंडल के सारे ग्रहों का प्रभाव मनुष्य पर अवश्य पड़ता है। ग्रहों के अनुसार तिलक लगाने से शुभ फल की प्राप्ति भी होती है । चन्दन का तिलक, सभी तिलकों में, सभी प्रकार से अत्यन्त शुभ एवं लाभकारी है । इसे माथे पर लगाने से शीतलता प्राप्त होती है तथा इसकी खुशबू से घर में नकारात्मक ऊर्जा का नाश होता है। अतः इसे घर में अवश्य रखना चाहिए ।

  • † वीणा

माँ सरस्वती को ज्ञान , बुद्धि और संगीत की अधिष्ठात्री देवी माना जाता है। जिन पर माँ सरस्वती की कृपा रहती है, उनके घर में कभी दरिद्रता का वास नहीं होता। कमल पुष्प पर आसीन माँ सरस्वती को हाथ में वीणा लिये हुए दिखाया गया है । वीणा को माँ सरस्वती का ही रूप माना जाता है। इसीलिए घर में वीणा रखने से माँ सरस्वती का आशीर्वाद प्राप्त होता है और दरिद्रता का नाश होता है।

ये सभी बातें स्वयँ श्री कृष्ण ने युधिष्ठर को बतायीं थीं , जिनका प्रयोग एवं अनुसरण  करके हम जीवन में बहुत सी परेशानियों से खुद को दूर कर सकते हैं ।




3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>