Hindi Articles

पापमोचनी एकदशी व्रत का महत्व

पापमोचनी एकदशी व्रत का महत्व , पापमोचनी एकादशी व्रत चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की एकदशी का होता है . यह एकादशी इस बार 4 अप्रैल कोहै, इस विषय मैं राजा मन्धाता और महर्षि लोमेश से सम्बंधित कथा युधिष्ठिर को भगवान् कृष्ण ने सुनाई थी.लोमेशऋषि ने मान्धाता से कहा – अप्सराओ द्वारा सेवित चैत्ररथ नमक&hellip…

आखिर कौन सा कर्म है जिसकी वजह से भीष्म पितामह को 58 दिनों तक बाणो की शैय्या में लेटना पड़ा था

आप  सब  जानते  ही  है की पांडवो और कौरवो के बीच महाभारत का भयंकर युद्ध हुआ था जिसमे भीष्म पितामह जो कौरवो के पक्ष से सेनापति थे. जिन  पर  अर्जुन  ने  कई बाणो से वार कर दिया और इतने बाणो के प्रहार से भीष्म पितामह 58 दिनों तक शैय्या बने रहे. फिर अपनी मृत्यु के बाद स्वर्गलोक को प्रस्थान किया. लेकिन  इस…

जानिए शीतला अष्टमी व्रत क्या है , शीतला माता का स्वरुप कैसा है ?

जानिए शीतला अष्टमी व्रत क्या है , शीतला माता का स्वरुप कैसा है ? सफलता पाने के लिए धैर्य के साथ सरलता का गुण होना अति आवश्यक है. सनातन धर्म में इन् गुणों की देवी माँ शीतला है . गधा इनका वाहन है, जिसे दूर्वा चढ़ाना लाभकारी माना जाता है .यह ९० दिन का व्रत……

पुराणों के अनुसार ऐसे होगा कलयुग और पृथ्वी का अंत !!!

हिन्दू धर्म के मत हे अनुसार ऐसा माना गया है कि पृथ्वी पर चार युग हैं, सतयुग, त्रेतायुग, द्वापरयुग और कलयुग . वर्तमान युग में कलयुग  चल रहा है. कलयुग  अर्थात आप अगर कोई भी दुष्कर्म या कुकर्म करते हैं तो इसका फल आपको यहीं मिलता है. लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि……

इतिहास के पन्नो से – नाम का महत्व

इतिहास के पन्नो से – नाम का महत्व गुरु नानक देव और मरदाना एक बार किसी जंगल से जा रहे थे, मरदाना ने गुरु नानक देवजी को बड़ी विनम्रता से कहा महाराज बहुत भूख लगी है, मुस्कराते हुए नानकजी ने जवाब दिया की आप रोटियां सेक लो उन्होंने जवाब दिया की नानकजी बहुत ठण्ड है……

कीजिये मंगल का उपाय

मंगल एक ऐसा गृह है जिसे नुमेरोलॉजि में ऑडिट का गृह मन गया है, यह हमें हमारे अच्छे और बुरे कर्मो का फल देता है साथ ही हमें सीखता  है की ज़िन्दगी की मुश्किल लड़ाई हमें कैसे लड़नी है , पर हमें यह जानना बाहर आवश्यक है की ऐसे क्या उपाय करे जिससे हमारा मंगल……

Kismat Ka taala kholega AAJ ka yeh UPAYE !!!

Kismat Ka taala kholega AAJ ka yeh UPAYE आज का दिन का यह उपाय आपके लिए बहुत ही फायदेमंद साबित हो सकता है, हम अक्सर देखते है की कई बार हमारी किस्मत नहीं चलती या हम कोई भी काम करते है तो सफलती हासिल नहीं हो पाती , तो हम भी सोचते है की आखिर……

Katyayani

Maa Katyayani – Sixth Navratra

Maa Katyayani – Sixth Navratra कात्यायनी : त्रिदेवो का तेज़ माँ दुर्गा का छठा स्वरुप है माँ कात्यायनी , कत नामक महर्षि के पुत्र ऋषि कात्या ने भगवती पराम्बा की उपासना कर उनसे घर मैं पुत्री के रूप में जनम लेने की प्राथना की थी . माँ भगवती ने उनकी यह प्राथना स्वीकार कर ली……

भगवान शिव

जानिए रहस्य कमलनाथ महादेव मंदिर का जहाँ भगवान शिव से पहले पूजे जाते है रावण

रावण को नीति, राजनीति और शक्ति का महान् पंडित माना जाता था  क्योंकि उसकी तपस्या की धाक  भगवान से लेकर देवी- देवताओं  समेत में मशहूर थी । इसी का उदाहरण है कमलनाथ महादेव मंदिर । जहां पर महादेव से पहले रावण को पूजा जाता है । ये जानकर  आपको ज्यादा आश्चर्य होगा कि यह मंदिर……

नजर

नजर लगने के लक्षण और उतरने के तरीके

नजर लगना – वास्तिवकता या वहम  हाल ही में , मेरी मम्मी की तबीयत बिगड़  गई तो  उनकी दोस्त बोली कि शायद उनको नज़र लग गई है । फिर उनको बाबा के पास झाड़ा दिलाने ले गए । जिसके बाद मम्मी ने राहत की सांस ली । तो लब्बोलुबाब ये है कि नज़र लगना कोई……