सोते समय सपने तो हम सभी देखते हैं, परन्तु सच तो यह है कि सपनों का अपना एक अलग ही संसार है जिससे हम पूरी तरह परिचित नहीं हैं | जहाँ एक तरफ विज्ञान इन्हें दिन भर की सोची हुई चीज़ों से जोड़ता है, तो वहीँ दूसरी तरफ ज्योतिष शास्त्र का मत है कि सपने……