जानें आपके लिए कैसी स्त्रियाँ हैं अशुभ

प्रकृति का रूप कही जाने वाली स्त्रियों को भारतीय समाज में पूजनीय माना जाता है | माँ, बहन, पत्नी और बेटी जैसे कई रूपों को बखूबी निभाने वाली स्त्रियों का दर्जा बहुत ऊंचा है | प्रकृति ने स्त्रियाँ रुपी कृति को बहुत सारे मानवीय गुणों से संवारा है जैसे ममता, स्नेह, सौम्यता, शक्ति आदि |

वैसे तो हम स्त्री को परिवार की इज्ज़त एवं घर की लक्ष्मी जैसी उपाधियों से सम्मानित करते हैं | और स्त्रियाँ भी अपनी जिम्मेदारी को बेहतरीन ढंग से निभाते हुए परिवार और कुल की इज्ज़त को सर्वोपरि मानती हैं | अपने नैतिक गुणों का स्तर उच्च रखना एवं समाज में अपने आचरण और चरित्र की पवित्रता बरक़रार रखना ही स्त्री का सबसे बड़ा धर्म माना जाता है| परन्तु जिस प्रकार एक वृक्ष के सभी फल समान नहीं होते, उसी प्रकार यह ज़रूरी नहीं हर स्त्री इन सारे गुणों से सुसज्जित हो | समाज में बहुत सी ऐसी भी महिलाएं होती हैं, जो अपने ससुराल पक्ष के लिए दुर्भाग्य लेकर आती हैं और पूरे कुल का विनाश कर देती है | ये महिलाएं लक्ष्मी नहीं बल्कि कुलक्ष्मी कहलाती हैं |

समस्या यह है कि ऐसी स्त्रियों को पहचाना कैसे जाए, जो हमारे लिए अशुभ हों | आपकी इस परेशानी का हल भी आज हम लेकर आए हैं अपने इस लेख में | भारतीय संस्कृति में ‘बृहद संहिता’ एक प्रसिद्ध ग्रन्थ है, जो आपको बता सकता है कि स्त्री के चेहरे, शारीरिक बनावट और स्वभाव से उसके लक्षणों के बारे में कैसे ज्ञात करें | आइये बनाइये  किस्मत  हम आपको कुछ ऐसे ही संकेतों के बारे में बताते हैं –

  • पैर की उँगलियाँ –

    पैर की उँगलियाँ
    पैर की उँगलियाँ

मान्यताओं के अनुसार दूसरे नंबर की ऊँगली जो अंगूठे के बगल में होती है, वह अगर अँगूठे से अत्यधिक लंबी हो एवं पैर की सबसे छोटी ऊँगली (कनिष्ठका) व उसके बराबर वाली ऊँगली ज़मीन से उठी हुई रहती हो अर्थात् ज़मीन को छू नहीं पाती हो, तो ऐसी स्त्रियाँ अकसर क्रोधी स्वभाव की और जिद्दी किस्म की मानी जाती हैं | कहते हैं इन पर नियंत्रण पाना मुश्किल होता है और साथ ही समय-समय पर स्थिति अनुसार चरित्र और स्वभाव बदलने के कारण ये विश्वसनीय भी नहीं होतीं |

  • पैर का अकार

पैर के पीछे के भाग की नसें अगर उभरी हुई होतीं हैं और यह भाग आकर में चौड़ा व धरती से उठा हुआ होता है, तो ऐसी महिलाएं भी अशुभ होने का संकेत देती हैं| वहीँ इसके विपरीत यह हिस्सा अगर सूखा हुआ हो यानी ऐसा प्रतीत होता हो कि इस हिस्से में मांस की कमी है तो यह सूचक है महिला के कष्ट भरे जीवन का |

  • पेट का अकार

    पेट का अकार
    पेट का अकार

जिन महिलाओं का पेट घड़े के आकार में होता है, उन्हें गरीबी हमेशा अपने वश में किये रहती है | इसके साथ ही यदि पेट बहुत लंबा और गड्ढेदार है, तो ऐसी स्त्रियाँ भी अशुभ होती हैं जिनके हालात अच्छे नहीं होते |

  • अशुभ की पहचान-

घर में यदि ऐसी महिला हो जिसका नितम्ब या कमर का निचला हिस्सा भारी और वजनी होता है, तो वह अपने पति के लिए अशुभ का सूचक होती है | वहीँ अगर पेट लंबा है तो ससुर के लिए और माथा (ललाट) लम्बा होने पर देवर के लिए अशुभ साबित होती हैं |

  • लंबा कद-

    लंबा कद
    लंबा कद

अपने पति से अधिक लंबी स्त्रियाँ पति के लिए शुभ नहीं होतीं हैं एवं होंठों के ऊपर वाले हिस्से में ज्यादा बाल होने से भी दुर्भाग्य की सम्भावनाएं पैदा होती हैं |

  • हथेली का निशान

    हथेली का निशान
    हथेली का निशान

बहुत सी स्त्रियों की हथेली पर ऐसी आकृति बनती है जो किसी मास भक्षी पशु या पक्षी की तरह लगती हो जैसे भेड़िया, उल्लू, साँप या कौवा | यदि किसी स्त्री की हथेली पर ऐसे चिह्न दिखाई दें तो समझ जाएँ कि ये स्त्रियाँ दूसरों के दुख के लिए जिमेदार होती हैं |

  • कानों और दाँतों का अकार

    कानों का अकार
    कानों का अकार

असमान आकर वाले कान और कानों में बाल गृह कलेश की संभावनाएं जताते हैं| बाहर की ओर निकले हुए लम्बे, चौड़े और मोटे दांत वाली स्त्री अभागी होती है | काले मसूड़े वाली स्त्री का भी दुर्भाग्य कभी पीछा नहीं छोड़ता |

  • हाथ का अकार

चपटी हथेली वाली और हाथों में उभरी हुई नसों वाली महिला ताउम्र धन-सम्पदा व सुखी जीवन से वंचित रहती है |

  • आँखों का रंग-

    आँखों का रंग
    आँखों का रंग

महिलाओं की आँखों का रंग भी उनके स्वभाव की कहानी कहता है | जहां एक तरफ पीली और डरी-सहमी आँखों वाली महिला का स्वभाव बुरा होता है तो दूसरी तरफ स्लेटी रंग की आँखें, जो चंचलता से भरी हों वे उत्तम गुणों की निशानी हैं |

  • स्त्रियाँ डिंपल-

    dimple
    डिंपल

कहते हैं डिंपल पड़ने वाली महिला बहुत सुन्दर लगती है किंतु अकसर डिंपल यानी हँसते हुए गाल में पड़ने वाले गड्ढे बुरे चरित्र की सम्भावनाएं भी जताते हैं |

  • गर्दन की उंचाई-

चार अंगुल से अधिक लंबी गर्दन वाली महिला अपने वंश और कुल के लिए विनाशिनी साबित होती है तो छोटी गर्दन वाली महिला सही निर्णय लेने में असमर्थ होती है | अपने हर फैसले के लिए ये दूसरों पर ही निर्भर होती हैं | जिन महिलाओं की गर्दन चपटी होती है, उनमें क्रूरता और क्रोध जैसे गुण विद्यमान होते हैं | 

    इस लेख का उद्देश्य बृहद संहिता की कुछ बातों को आप तक पहुंचाना था परन्तु किसी भी स्त्री की गरिमा या सम्मान को ठेस पहुँचाना नहीं था | स्त्रियों को शुभ या अशुभ की श्रेणी में बांटना हमारा प्रयास नहीं है | यह केवल एक लेख है जिस पर पूर्ण विश्वास करने से पूर्व आप अपने अनुभवों को ध्यान में रखें | इसे मानने से पहले सोच-विचार अवश्य करें |

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>