शिवरात्रि के दिन होंगी इन मंत्रों से सभी मनोकामनाएं पूर्ण

1. शिवरात्रि एक बड़ा पर्व
ओम नम: शिवाय से लेख की शुरुआत करते है क्योंकि आज है शिवरात्रि । आज के दिन शिव भक्तों का मेला शिव मंदिर में लगता है । उनके लिए झांकिया सजाई जाती है । शिव की महिमा के मुरीदों में क्या बच्चे और क्या बूढ़े सब एक समान है । इस बड़े पर्व के उपलक्ष्य में शिव भक्त उपवास रखते है जिससे शिव की भक्ति में लीन हो सके और अपनी मनोकामनाओं को पूरा कर सके । वैसे तो प्रत्येक महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी पर पड़ती है शिवरात्रि । लेकिन हिंदू धर्म के मुताबिक, फाल्गुन महीने की कृष्ण पक्ष को अहम शिवरात्रि मानते है । इसीलिए बड़े पंडित गण महाशिवरात्रि के रुप में मनाते है ।

2. महाशिवरात्रि
आज है 24 फरवरी, 2017 । इस दिन को कई कारणों से याद किया जाता होगा ,लेकिन आज हिंदूओं में इसे महाशिवरात्रि के रुप में मनाया जाता है।
मान्यता है कि इस दिन की गई मुरादें शिव की कृपा से पूरी हो जाती है इसीलिए अन्य पर्वों से ज्यादा महत्व महाशिवरात्रि को दिया जाता है । इसके पीछे अहम कारण है कि इस दिन लोग धार्मिक कार्य और उपवास भी रखते है ।
3. शिव आराधना का दिन
कहा जाता है जिसने भी इस दिन पूरे तन- मन से शिव की सेवा की है , शिव की पूरी श्रद्धा से अराधना की है तो भगवान भोले उसकी मनोकामना को पूरी करने में कसर नहीं छोड़ते है । इसीलिए आप भी पूरे दिलो-दिमाग से शिव की भक्ति में दिन गुजारे ।
4. भक्त मांगते हैं मुराद
अगर आपकी जिंदगी में कोई दुख है कोई चिंता है तो उसके लिए भगवान भोले का उपवास करके देखे , आपके सारे दुख हर लिए जाएंगे। लेकिन आपको गलत तरीके से पूजा ना करने से बचाना होगा , उसके लिए हम गाइड करेंगे । इन नियमों में उपवास और पूजा करने का तरीका होंगे । कौनसे मंत्र का उच्चारण जरुरी है । ये सारी महत्वपूर्ण जानकारी आपसे सांझा करेंगे । तो वो नियम इस प्रकार है —




5. कुवारी कन्याओं के लिए
ज्यादातर महिला और पुरुषों की शादी कई कारण वश पूरी नहीं हो पाती है तो वो आज के दिन उपवास रखें और भोले की पूजा करें । धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक . आज के दिन शिव और पार्वती 7 सूत्री बंधन में बंधे थे । इसलिए बूढ़े- बुजुर्ग का कहना है कि आज के दिन शिव सभी अविवाहितों की मुरादों को पूरी कर देते है ।
6. विवाह ना हो रहा तो
कई बार आप आपके आस-पास देखते है कि एक सुशील महिला की शादी नहीं हो पाती है तो आप उन्हें बता सकते है कि वो आज के दिन भोले का ध्यान लगाए और उपवास रखे । आज स्त्री को चारो प्रहर फल, धतूरा, धूप,पुष्प, चंदन ,बिस्वपत्र और दीप से पूजा करनी चाहिए ।
7. मंत्र जाप
उपवास करने वाले को ज्यादा कुछ नहीं करना है बस दूध ,घी, शहद, दही और शक्कर को मिलाकर पंचामृत बनाना है । उसके बाद शिव स्नान करके जल से भी शिवलिंग का स्नान कर देना है । दुसरी तरफ चारो प्रहर भोले के शिव पंचाक्षर “ॐ नम: शिवाय” का जप करना ना भूलें । उसके पश्चात शिव भगवान पर पुष्पाजंलि के दौरान आठ नामों का जाप करे । जो इस प्रकार है भव, शर्व, रुद्र, पशुपति, उग्ग्र, महान, भीम और ईशान । अंतिम दौर में उनकी आरती करके परिक्रमा करना ना भूलें ।
8. मन मुताबिक वरदान चाहते हैं तो
इन सारी चीजों का पालन करने के बाद जल्दबाजी ना करें । क्योंकि इंसानी फितरत है कि वो काम के अंतिम दौर में गलती कर बैठता है । तो अपनी कामना को पूरी करने के लिए इस मंत्र जाप सहीं उच्चारण के साथ जरुर करें वो है – ॐ ऐं ह्रीं शिव गौरीमव ह्रीं ऐं ॐ
9. सुख-शांति के लिए
शादी शुदा महिलाएं घर में शांति बनाए रखने के लिए भी व्रत रखती है तो इस प्रकार के वरदान के लिए ज्यादा मशक्कत नहीं करनी है बस इतना करें कि जब भोले का दुध से अभिषेक करें , दिए गए मंत्र का उच्चारण करें और उच्चारण में गलती ना करें । मंत्र है ॐ ह्रीं नम: शिवाय ह्रीं ॐ
10. कन्या की शादी के लिए
जैसे कि पहले बताया कि आज के दिन शिव और पार्वती की शादी हुई थी तो कितनी भी अविवाहित महिला की शादी में रुकावटें आ रही हो , वो इस मंत्र का जाप करें । वो है – “हे गौरि शंकरार्धांगि यथा त्वं शंकरप्रिया”
अंतिम पंक्तियों को बम बम भोले के साथ खत्म करते है ।

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>